सरकारी निवेश के सूखे से जूझता कृषि क्षेत्र

| August 14, 2020

 

भारत में खेती किसानी को आज भी घाटे का सौदा समझा जाता है. सरकारें कहती हैं कि खेती में निवेश किया जाना जरूरी है. कुछ साल पहले नीति आयोग ने एक रिपोर्ट जारी की थी जिसमें कहा गया था कि अगर वास्तव में किसानों की हालत में सुधार लाना है तो सिंचाई के बुनियादी ढांचे को बेहतर बनाना होगा. खेती में निजी और सरकारी निवेश दोनों की अगर एक साथ बात की जाए तो इसमें 6,32,000 करोड़ निवेश की जरूरत है.


वीडियो