प्रतिरोध की आवाज बनी फैज की नज्म

| January 10, 2020

 

फैज अहमद फैज की नज्म ‘हम देखेंगे’ एक विरोध कविता के रूप में उभरी है. सीएए का विरोध जाहिर करने के लिए कई कॉलेजों के छात्रों ने इसे गाया था.


वीडियो