सुर्ख़ियां


विश्व कप: बारिश से धुलते मुकाबलों के बीच ‘रिजर्व डे’ पर चर्चा तेज

Reserve day not an option, says ICC as rain wreaks havoc

 

इंग्लैंड में जारी विश्व कप में बारिश लगातार खलल डाल रही है. इसके चलते मैच रद्द होने से टीमें खेलने से वंचित रह जा रही है, जो अंतिम रूप से परिणाम को प्रभावित करेगा. इन हालात में रिजर्व डे को लेकर चर्चा तेज हो गई है.

आईसीसी के पूर्व सीईओ डेविड रिचर्डसन ने रिजर्व डे के विचार को असंभव बताया है. उन्होंने कहा कि बारिश से प्रभावित विश्व कप मैचों के लिए अलग से रिजर्व डे रखना टूर्नामेंट की लंबी अवधि को देखते हुए व्यावहारिक रूप से असंभव है.

श्रीलंका के पाकिस्तान और बांग्लादेश के खिलाफ दोनों मैच बारिश की भेंट चढ़ गए. इन दोनों मैचों में एक गेंद भी नहीं डाली जा सकी. दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज के बीच एक अन्य मैच केवल 7.3 ओवर के खेल के बाद रद्द कर दिया गया. जिसके बाद मैचों के लिए अलग से सुरक्षित दिन रखने की मांग उठने लगी.

रिचर्डसन ने बयान में कहा, “विश्व कप के हर मैच के लिए एक दिन अलग से तय करने से टूर्नामेंट की अवधि और लंबी खिंच जाएगी और व्यावहारिक तौर पर इसे संचालित करना बेहद जटिल होगा.”

रिचर्डसन ने कहा, “यह पूरी तरह से बेमौसम की बरसात है. पिछले दो दिन में यहां जितनी बारिश हुई वह पूरे जून में होने वाली औसत बारिश से दोगुनी है. जून को ब्रिटेन में सबसे सूखा महीना माना जाता है. पिछले साल 2018 में जून में केवल दो मिमी बारिश हुई थी लेकिन पिछले 24 घंटों में ही दक्षिण पूर्व इंग्लैंड में 100 मिमी बारिश हो गयी.”

उन्होंने प्रत्येक मैच के लिए एक दिन सुरक्षित रखने के प्रभाव पर विस्तार से बात की.

रिचर्डसन ने कहा, “इससे पिच की तैयारियों, टीम की तैयारियां और यात्रा के दिनों, आवास और स्थल की उपलब्धता, टूर्नामेंट के स्टाफ से जुड़ी चीजें, स्वयंसेवक और मैच अधिकारियों की उपलब्धता, प्रसारण उपकरणों और मुख्य तौर पर दर्शक प्रभावित होंगे, जिन्होंने मैच देखने के लिए कई घंटों की यात्रा की है.”

उन्होंने कहा, “इसकी भी कोई गारंटी नहीं है जो दिन आपने मैच के लिए सुरक्षित रखा है उस दिन बारिश नहीं होगी.”