सुर्ख़ियां


जन्म दिन विशेष: बॉलीवुड के विलक्षण अभिनेता थे संजीव कुमार

Sanjeev kumar's birthday special

संजीव कुमार का जन्म 9 जुलाई साल 1938 में हुआ था. संजीव कुमार को कम ही लोग उनके असली नाम हरिहर जरीवाल से जानते थे. उन्होनें बेहद ही कम उम्र में सोच लिया था कि वे अभिनेता बनेंगे. वे अपना अभिनेता बनने का सपना पूरा करने के लिए मुंबई आए जिसके बाद उन्होंने फिल्मालय के एक्टिंग स्कूल में दाखिला लिया.

साल 1960 में उन्हें ‘हम हिन्दुस्तानी’ फिल्म में एक छोटी सी भूमिका निभाने का अवसर मिला. जिसके बाद उन्हें फिल्म ‘निशान’ में काम मिला. लेकिन ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास कमाल ना दिखा सकी .

साल 1960 में ही ‘खिलौना’ फिल्म आई. इस फिल्म में उनका अभिनय देखते ही बनता था. इस फिल्म में उनका अभिनय देखकर दिलीप कुमार ने उनके अभिनय की सराहना की. इस फिल्म के साथ ही संजीव को हिन्दी सिनेमा में एक अलग पहचान मिली.

सलीम खान ने संजीव कुमार से फिल्म ‘त्रिशूल’ में अमिताभ बच्चन और शशि कपूर के पिता की भूमिका निभाने को कहा तो उन्होनें ने हामी भर दी थी. 20 साल की उम्र में संजीव कुमार ने बूढ़े आदमी का किरदार निभाया. इस किरदार में उन्हे पृथ्वीराज कपूर देखकर दंग रह गए थे.

संजीव कुमार ने कई मशूहर फिल्मों में अभिनय किया. जैसे ‘सीता और गीता’,‘मनचली’ ,‘आंधी’ ,‘मौसम’, ‘अंगूर’ और ‘नमकीन’, ‘शोले’. ‘अंगूर’ में वह जुड़वा भूमिका में नजर आए. साल 1976 में फिल्म ‘शिकार’ के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार मिला.

इस के बाद साल 1972 में फिल्म ‘कोशिश’ में उन्होंने गूंगे-बहरे आदमी का किरदार निभाया था. जिसके लिए उन्हें नेशनल अवॉर्ड मिला और साथ फिल्मफेयर में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार भी मिला. संजीव कुमार हेमा मालिनी से प्यार करते थे औऱ शादी करना चाहते थे.लेकिन हेमा की मां ने संजीव कुमार के रिश्ते को ठुकरा दिया था.

साथ ही हेमा ने भी रिश्ते के लिए मना कर दिया था. इसके बाद संजीव ने कभी शादी नहीं की. एक बार संजीव ने गुलजार से शादी ना करने की वजह बताई थी. उनका मानना था कि उनके परिवार में कोई भी आदमी 50 साल से ज्यादा नहीं जी सकता है. इसलिए वे किसी से शादी नहीं करना चाहते. साल 1985 में 47 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई.