सुर्ख़ियां


‘फ़र्ज़ी’ वीडियो चलाने पर मीडिया पर मानहानि की तैयारी में सिद्धू

navjot singh sidhu can file defamation case against media house to run alleged doctorate video

 

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी एक रैली में कथित तौर पर ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए जाने संबंधी वीडियो को साजिश करार दिया है. उन्होंने तीन दिसंबर की रात जयपुर में कहा कि वह इस मामले में सम्बद्ध पक्षों के खिलाफ मानहानि का मुकदमा करेंगे. उन्होंने सफाई में एक वीडियो ट्वीट किया है.

उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ चैनलों ने ‘जो बोले सो निहाल सत श्री अकाल’ को तोड़-मरोड़ कर ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे के रूप में दिखाया है. उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि ‘ मैं मानहानि का मुकदमा करूंगा.’

कुछ टीवी चैनलों पर एक वीडियो दिखाया गया, जिसके अनुसार अलवर में सिद्धू की सभा में कथित तौर पर ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगे. कई वरिष्ठ पत्रकारों ने संबंधित मीडिया चैनल के गैर जिम्मेदार व्यवहार की आलोचना की है. राजदीप सरदेसाई ने वीडियो फुटेज शेयर करते हुए लिखा, “बेहद शर्मनाक… वे बिना किसी जिम्मेदारी के इसे जारी रखा है.”

 

सिद्धू ने कहा कि जो नारा ‘जो बोले सो निहाल सत श्री अकाल’ का लग रहा है उस नारे को आप ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ बनाकर दिखाओगे. बाद में उसे वापस ले लोगे, क्या यह शोभा देता है?

उन्होंने इस बारे में किसी चैनल या पार्टी का नाम लिए बिना कहा कि वह ‘इस बारे में अपने वकीलों से बात करेंगे.’

राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपनी सभाओं में इस प्रकरण का जिक्र करते हुए कांग्रेस की आलोचना की थी.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इससे पहले ट्विटर पर कुछ चैनलों का नाम लेकर आरोप लगाया था कि उन्होंने सिद्धू का पूरी तरह से ‘मिलावटी’ वीडियो शेयर किया. सुरजेवाला ने इस घटना का ‘मूल’ (वास्तविक) वीडियो भी शेयर किया था.

 

इससे पहले जेएनयू छात्र यूनियन के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार सहित छात्र नेताओं की सभा में पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगने के वीडियो कुछ मीडिया हाउस ने चलाए थे. इस मामले में दिल्ली पुलिस कोई साक्ष्य इकट्ठा नहीं कर पाई. बाद में यह पाया गया कि वीडियो के साथ छेड़छाड़ हुई है.