भारत-चीन एक दूसरे के लिए खतरा नहीं हैं: चीनी राजदूत

india and china are not threat to each other says chinese ambassador

 

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के भारत दौरे के ठीक पहले चीन ने कहा है कि दोनों देश एक दूसरे के लिए किसी तरह का खतरा नहीं हैं और दोनों एशियाई देशों के बीच वृहद सहयोग से क्षेत्र में और इससे परे शांति और स्थिरता लाने में सकारात्मक ऊर्जा मिलेगी.

चीनी राजदूत सुन वीदोंग ने एक साक्षात्कार में कहा कि 11 अक्टूबर से शुरू हो रही दो दिवसीय अनौपचारिक शिखर वार्ता से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों के विकास की दिशा पर दिशानिर्देशक सिद्धांत समेत नई आम-सहमतियां उभर सकती हैं.

उन्होंने कहा कि दुनिया के दो सबसे बड़े विकासशील और उभरती अर्थव्यवस्थाओं वाले देश, चीन और भारत की इस जटिल दुनिया में सकारात्मक ऊर्जा भरने की जिम्मेदारी है.

सुन ने कहा, ‘‘हमारा विश्वास है कि शिखर वार्ता द्विपक्षीय संबंधों को उच्च स्तर पर ले जाएगी और क्षेत्रीय तथा वैश्विक शांति, स्थिरता एवं विकास पर इसका बड़ा और सकारात्मक असर पड़ेगा.’’

शी करीब 24 घंटे की यात्रा के लिए 11 अक्टूबर को चेन्नई पहुचेंगे. वह ऐसे समय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अनौपचारिक वार्ता करने वाले हैं जब कश्मीर के मुद्दे को लेकर दोनों देशों के बीच असहज स्थिति पैदा हो गई है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 8 अक्टूबर को बीजिंग में जिनपिंग के साथ बातचीत में इस मुद्दे को उठाया था.

सुन ने कहा, ‘‘दोनों देश एक दूसरे को खतरा नहीं पहुंचाते बल्कि एक दूसरे के लिए विकास के अवसर मुहैया कराते हैं. चीन और भारत के बीच सहयोग न केवल एक दूसरे के विकास में योगदान देगा, बल्कि वैश्विक बहु-ध्रुवीकरण तथा आर्थिक वैश्वीकरण की प्रक्रिया को भी बढ़ाएगा तथा विकासशील देशों के साझा हितों की सुरक्षा करेगा.’’

चीनी राजदूत ने कहा कि दोनों नेता अंतरराष्ट्रीय हालात पर और चीन और भारत के बीच संबंधों के विकास से संबंधित समग्र, दीर्घकालिक एवं रणनीतिक मुद्दों पर गहराई से विचार-विमर्श भी करेंगे.

सुन ने कहा, ‘‘आम-सहमतियों का नया ढांचा उभर सकता है जिसमें अंतरराष्ट्रीय प्रणाली के बदलाव के लिए साझा दृष्टिकोण, क्षेत्रीय मामलों में चीन और भारत की साझा जिम्मेदारी एवं भूमिका तथा द्विपक्षीय संबंधों एवं अनेक क्षेत्रों में सहयोग के विकास की दिशा पर दिशानिर्देशक सिद्धांत शामिल हैं.’’

राजदूत ने कहा कि भारत और चीन के बीच गहन सहयोग से विकासशील देशों को लाभ मिलेगा तथा एकपक्षवाद एवं संरक्षणवाद जैसी वैश्विक चुनौतियों से निपटा जा सकेगा.

उन्होंने कहा, ‘‘एकपक्षवाद, संरक्षणवाद और व्यापार में प्रभुत्व जमाने का चलन बढ़ता जा रहा है. मानव समाज के सामने साझा चुनौतियां और खतरों में बढ़ोतरी हुई है.’’

शी और इमरान खान की बातचीत के बाद 8 अक्टूबर को जारी संयुक्त बयान में कहा गया था कि चीन घाटी में हालात पर करीब से नजर रख रहा है. इसके बाद भारत और चीन के बीच संबंधों में फिर से असहज स्थिति पैदा हो गई थी.

बयान में कहा गया कि कश्मीर का मुद्दा इतिहास से विवाद में चला आ रहा है और संयुक्त राष्ट्र के चार्टर के अनुसार इसका उचित और शांतिपूर्ण समाधान निकाला जाना चाहिए.

शी-खान की मुलाकात के बाद विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि भारत की सतत और स्पष्ट स्थिति रही है कि जम्मू कश्मीर देश का अभिन्न हिस्सा है और चीन इस संबंध में भारत के रुख से भलीभांति वाकिफ है.

संपूर्ण चीन-भारत संबंधों के संदर्भ में चीनी राजदूत ने खासतौर पर निवेश और ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग की बात कही. उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में नये सिरे से प्रगति हुई है.


Opinion

Democracy Dialogues


Humans of Democracy

arun pandiyan sundaram
Arun Pandiyan Sundaram

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के भारत दौरे के ठीक पहले चीन ने कहा है

saral patel
Saral Patel

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के भारत दौरे के ठीक पहले चीन ने कहा है

ruchira chaturvedi
Ruchira Chaturvedi

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के भारत दौरे के ठीक पहले चीन ने कहा है


© COPYRIGHT News Platform 2020. ALL RIGHTS RESERVED.