सुर्ख़ियां


भारत में धर्म और कानून को लेकर भ्रमित है फेसबुक

facebook moderators acting on wrong interpretation of Indian laws

 

इन दिनों फेसबुक दुनिया भर में नफरत फैलने की वजह के रूप में कुख्यात हो रही है. इसके चलते फेसबुक के कर्ता-धर्ता इसे नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे है. इस दौरान भारत में धार्मिक टिप्पणियों को लेकर उन्हें काफी दिक्कत हो रही है.

भारतीय कानून के बारे में सही जानकारी नहीं होने से उसके मॉडरेटरों को भारत में धर्म को लेकर किए गए कमेंट को हटाने के लिए कह दिया जाता है. ये बात ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ के एक लेख में सामने आई है.

फेसबुक के मॉडरेटर सोशल नेटवर्किंग साइट पर भ्रामक कंटेंट को नियंत्रित करने का काम करते हैं. इन मॉडरेटरों को समय-समय पर फेसबुक के कर्मचारी कानून को लेकर दिशा निर्देश देते हैं .

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, हर मंगलवार सुबह फेसबुक के कई कर्मचारी नाश्ते पर जमा होते हैं. इस दौरान वे नियमों पर चर्चा करते हैं कि साइट पर दो अरब यूजर्स को क्या करने की अनुमति हो और क्या नहीं.

इन बैठकों से जो दिशानिर्देश उभर कर सामने आते हैं उन्हें दुनियाभर में 7,500 से अधिक मॉडरेटरों को भेज दिया जाता है.

रिपोर्ट में कहा गया कि फाइलों की जांच से कई खामियों, पूर्वाग्रह और त्रुटियों का खुलासा हुआ है.

रिपोर्ट के अनुसार भारत में मॉडरेटरों को अक्सर भूलवश धर्म की आलोचना वाले कमेंट हटाने के लिए कह दिया जाता है.

रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘एक नियम में मॉडरेटरों को कहा गया है कि सभी धर्मों की निंदा वाले पोस्ट भारतीय कानून का उल्लंघन है और उन्हें हटा दिया जाना चाहिए. यह अभिव्यक्ति पर अंकुश है और जाहिर तौर पर गलत है.’’

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार एक अन्य नियम में कहा गया है कि मॉडरेटर ‘‘फ्री कश्मीर’’ जैसे नारों पर नजर रखें.

इस रिपोर्ट में भारत और पाकिस्तान दोनों देशों में नियमों के बारे में चर्चा की गई है.