सुर्ख़ियां


अयोध्या मामला: यूपी में भड़काऊ पोस्ट करने के 77 आरोपी गिरफ्तार

Ayodhya case: 77 accused of posting provocative arrested in UP, internet shut in many parts of Rajasthan and MP

 

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आने के बाद से अब तक उत्तर प्रदेश पुलिस ने सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालकर माहौल खराब करने की कोशिश के आरोप में 77 लोगों को गिरफ्तार किया है.

गृह विभाग के सूत्रों ने बताया कि अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से अभी तक सोशल मीडिया पर भड़काऊ और आपत्तिजनक सामग्री डालने के मामले में कुल 34 मुकदमे दर्ज हुए हैं और 77 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

उन्होंने बताया कि 10 नवंबर को ऐसे 22 मुकदमे दर्ज करके 40 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. 10 नवंबर को फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर डाली गई 4563 पोस्ट पर कार्रवाई हुई. अब तक ऐसी कुल 8275 पोस्ट पर कार्रवाई हुई है.

गौतमबुद्ध नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वैभव कृष्ण ने बताया कि थाना एक्सप्रेसवे क्षेत्र के गांव शाहपुर में रहने वाले संदीप चौहान ने अपने फेसबुक अकाउंट पर अयोध्या प्रकरण को लेकर कथित तौर पर सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वाली एक पोस्ट डाली. उन्होंने बताया कि घटना की रिपोर्ट दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है.

उन्होंने बताया कि थाना दनकौर क्षेत्र के मंडी श्याम नगर में रहने वाले शनि नामक एक व्यक्ति ने अपने फेसबुक अकाउंट पर कथित तौर पर सौहार्द बिगाड़ने वाला पोस्ट डाला. उन्होंने बताया कि पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है.

एसएसपी ने बताया कि अयोध्या मामले पर फैसला आने के बाद सोशल मीडिया अकाउंट पर नजर रखी जा रही है. जो लोग इस मामले में भड़काऊ पोस्ट डाल रहे हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

प्रधान न्यायाधीश पर आपत्तिजनक टिप्‍पणी करने का आरोपी युवक गिरफ्तार

बरेली शहर में अयोध्‍या मामले पर दिये गये निर्णय को लेकर देश के प्रधान न्‍यायाधीश के प्रति सोशल मीडिया पर अमर्यादित पोस्‍ट करने के आरोप में एक युवक को गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस अधीक्षक रवींद्र कुमार सिंह ने बताया कि बारादरी इलाके के रहने वाले अब्दुल कय्यूम अंसारी को गिरफ्तार किया गया है. उन्‍होंने बताया कि अंसारी के खिलाफ भारतीय दण्‍ड विधान और आईटी अधिनियम की संबंधित धाराओं में मामला दर्ज किया गया है.

मध्य प्रदेश के सिवनी में आठ गिरफ्तारी

मध्य प्रदेश में सिवनी जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों से पुलिस ने सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट डालने के आरोप में आठ लोगों को गिरफ्तार किया है.

फैसले के बाद बुंदेलखंड इलाके के चार जिलों में एहतियात के तौर पर इंटरनेट सेवायें 24 घंटे के लिये स्थगित कर दी गई हैं.

प्रदेश के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (इंटेलीजेंस) एस डब्ल्यू नकवी ने बताया, ”एहतियात के तौर पर चार जिलों दमोह, पन्ना, छतरपुर और टीकमगढ़ में 10 नवंबर की रात 12 बजे से इंटरनेट सेवायें रोक दी गई हैं.”

उन्होंने कहा कि इन जिलों में इंटरनेट सेवायें 10 नवंबर की मध्य रात्रि से दोबारा शुरू कर दी जाएंगी.

मध्य प्रदेश जनसंपर्क विभाग के अधिकारी राजेश परते ने  बताया कि थाना छपारा क्षेत्र में व्हाट्सएप समूह में आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर ‘ग्रुप एडमिन’ राधे गज्जाम बिहिरिया और आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले शेरदिल रंजीत सिंह के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया गया है.

उन्होंने बताया कि थाना कोतवाली में राजेश जैन (44), ऐश्वर्य पोतदार (30), विवेक उर्फ छोटू बघेल और पंकज जेठानी (21) को तथा पुलिस थाना केवलारी में राजा राज राजपूत (40) और संतोष जंघेला (30) के खिलाफ प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की गई है. सभी आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

व्हाट्सएप समूह में कथित तौर पर भड़काऊ पोस्ट और फोटो डालने पर पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया है.

वहीं जेल विभाग के एक सिपाही को पटाखे फोड़ने पर निलंबित कर दिया गया है.

बहोड़ापुरा पुलिस थाने के प्रभारी वाय एस तोमर ने बताया कि नौ नवंबर को अयोध्या मुद्दे का निर्णय आने के चलते एहतियात के तौर पर सोशल मीडिया पर कड़ी निगरानी रखी जा रही थी. शनिवार की शाम को ही उनके मोबाइल पर किसी ने एक स्क्रीन शॉट भेजा, जिसमें भड़काऊ पोस्ट का फोटो था. यह फोटो दिनेश सिंह चौहान (27) ने सोशल मीडिया में डाला था.

राजधानी जयपुर सहित राजस्थान के कई हिस्सों में इंटरनेट सेवाएं बंद

अयोध्या मामले पर फैसले के मद्देनजर राजधानी जयपुर सहित राजस्थान के कई हिस्सों में  मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद रही.

संभावित अफवाहों को रोकने के लिये कल मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बंद किया गया था. मोबाइल इंटरनेट सेवाएं रविवार को भी बंद रही.

पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) एम एल लाठर ने बताया कि मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को फिर से शुरू करने का निर्णय सोमवार को समीक्षा के बाद लिया जायेगा.