सुर्ख़ियां


महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना को बहुमत, हरियाणा में त्रिशंकु विधानसभा

results of maharashtra & haryana assembly elections to be declared today

  ANI

हरियाणा की सभी 90 सीटों की मतगणना पूरी हो गई है. बीजेपी 40 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनने के बावजूद वह बहुमत से दूर रह गई है. राज्य में बहुमत का आंकड़ा 46 का है. वहीं सत्तारूढ़ बीजेपी को कांग्रेस से कड़ी चुनौती मिल रही है. कांग्रेस को 31 सीटों पर जीत मिली है. जननायक जनता पार्टी(जेजेपी) 10 सीटें जीतकर किंगमेकर की भूमिका में आ गई है.

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज और बनवाली लाल को छोड़कर खट्टर सरकार के सभी मंत्री चुनाव हार गए हैं.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने संकेत दिया कि हरियाणा में त्रिशंकु विधानसभा आने के मद्देनजर उनकी पार्टी राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है.

हरियाणा लोकहित पार्टी(एचएलपी) एक सीट मिली है.

राज्य की सात सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों की जीत हुई है.

इंडियन नेशनल लोकदल(आईएनएल) को एक सीट पर जीत मिली है.

बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि हरियाणा विधानसभा चुनावों के दौरान पार्टी के प्रबंधन में स्पष्ट कमी के चलते सत्तारूढ़ दल को उसकी उम्मीद के मुताबिक कामयाबी नहीं मिली है. हालांकि, उन्होंने दावा कि अंतिम चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद इस सूबे में बीजेपी ही फिर सरकार बनाएगी.

सिरसा विधानसभा सीट से गोपाल कांडा मामूली अंतर से जीते

हरियाणा लोकहित पार्टी (एचएलपी) के उम्मीदवार गोपाल कांडा ने सिरसा विधानसभा सीट मामूली अंतर से जीत ली.

निर्वाचन आयोग कार्यालय के अनुसार कांडा ने अपने निकटतम उम्मीदवार निर्दलीय गोकुल सेतिया को 602 वोटों से हराया.

हाल में  बीजेपी में शामिल हुईं जानी मानी हरियाणवी गायिका सपना चौधरी ने कांडा के लिए प्रचार किया था जिससे भगवा दल को शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी.

पूर्व मंत्री कांडा हरियाणा में एक प्रभावशाली राजनीतिक हस्ती हैं. उनका नाम तब सुर्खियों में आया था जब उनकी एअरलाइन कंपनी में काम करने वाली एक महिला कर्मचारी ने आत्महत्या कर ली थी.

महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को एक बार फिर पूर्ण बहुमत मिला है. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को कुल 288 सीटों में 163 सीटें मिली हैं. वहीं कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को 98 सीटों पर जीत मिली है. 27 सीटें निर्दलीय और अन्य पार्टियों के खाते में गईं.

मुख्यमंत्री पद के बारे में पूछे जाने पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि यह समय 50:50 फॉर्मूले को लागू करने का है.

बारामती विधानसभा सीट से एनसीपी नेता अजित पवार भारी अंतर से जीते

महाराष्ट्र के पूर्व उपमुख्यमंत्री और एनसीपी नेता अजित पवार ने बारामती विधानसभा सीट पर 1,65,265 मतों के विशाल अंतर से जीत दर्ज की.  एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार के भतीजे अजित को 1,95,641 वोट मिले जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी गोपीचंद पडालकर को 30,376 वोट मिले.

ज्यादातर एग्जिट पोल के पूर्वानुमानों की निकली हवा

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव में ज्यादातर एग्जिट पोल के पूर्वानुमान जमीनी सच्चाई से दूर रहे जिनमें कहा गया था कि दोनों राज्यों में बीजेपी को प्रचंड जीत मिलने जा रही है और कांग्रेस का प्रदर्शन निराशाजनक रहने वाला है.

दूसरी तरफ, ‘इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया’ का इकलौता ऐसा एग्जिट पोल रहा जिसका पूर्वानुमान इन दोनों राज्यों में वास्तवित परिणाम के काफी करीब पहुंचा.

इंडिया टुडे-एक्सिस के एग्जिट पोल में 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में बीजेपी-शिवसेना को 166-194 सीटें और कांग्रेस-राकांपा गठबंधन को 72-90 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है.

महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को 163 सीटें मिली हैं.

इसी तरह, इंडिया टुडे-एक्सिस एजेंसी ने अनुमान लगाया था कि 90 सदस्यीय हरियाणा विधानसभा में बीजेपी को 32 से 44, कांग्रेस को 30 से 42 और जननायक जनता को पार्टी को छह से 10 सीटें मिलेंगी.

साल 2014 महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 124 सीटों पर जीत के साथ बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी.

मतगणना के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

हरियाणा की 90 विधानसभा क्षेत्रों में से प्रत्येक में एक मतगणना केंद्र स्थापित किया गया है और गुड़गांव के बादशाहपुर खंड़ में एक अतिरिक्त केन्द्र बनाया गया है जिनमें बड़ी संख्या में मतदान केन्द्र थे.

वहीं महाराष्ट्र में सुरक्षा इंतजाम के बारे में एक चुनाव अधिकारी ने बताया कि मतगणना ड्यूटी के लिए करीब 25,000 कर्मियों की तैनाती की गई है. पुलिस ने मतगणना शांतिपूर्वक कराने के लिए पर्याप्त इंतजाम किए हैं. अधिकारियों ने बताया कि 288 विधानसभा क्षेत्रों के लिए राज्य के 269 स्थानों पर मतगणना होगी. सोमवार को राज्य में 61.13 प्रतिशत मतदान हुआ था जबकि वर्ष 2014 में 63.20 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया था.

हरियाणा में सोमवार को 68 प्रतिशत से अधिक मतदान दर्ज किया गया था जो 2014 में हुए विधानसभा चुनाव की तुलना में कम था. उस वर्ष 76.54 प्रतिशत मतदान हुआ था.