बबीता फोगाट को आतंकी बताने वाले हैशटैग पर शटलर ज्वाला गुट्टा ने जताया एतराज

Team NewsPlatform | April 19, 2020

jwala gutta slamed the twitter user response on babita phogat

 

भारतीय रेसलर बबीता फोगाट को तबलीगी जमात से जुड़े मामले पर किए एक ट्वीट करने के लिए काफी आलोचनाओं के साथ-साथ यूजर्स की ट्रोलिंग का भी सामना करना पड़ा रहा है.

महिला शटलर ज्वाला गुट्टा ने भी शुक्रवार को ट्विटर पर किसी का नाम ना लेते हुए अपने इस पर अपने विचार रखे. उन्होंने हालांकि बबीता का नाम नहीं लिया लेकिन जब एक यूजर ने उनके पोस्ट पर प्रतिक्रिया बबीता का नाम लेते हुए हैसटैग का इस्तेमाल किया तो उन्होंने आपत्ति की.

36 साल की शटलर ज्वाला ने एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा कि वह हमेशा देश के लिए खेलीं और देशवासियों ने उनकी हर जीत का जश्न मनाया.

वर्ल्ड चैंपियनशिप की ब्रॉन्ज मेडलिस्ट ज्वाला ने लिखा, ‘इससे पहले कि ट्रोलर्स मुझ पर हमला करें, मैं यहां केवल एक भारतीय की तरह हूं क्योंकि जब मैंने मेडल जीते तो देश के लिए जीते और किसी ने यह नहीं देखा कि मैं किस मजहब को मानती हूं और किस जाति से ताल्लुक रखती हूं. मेरी जीत का जश्न हर भारतीय ने मनाया.  प्लीज, हमारे देश को मत बांटिए, एक रहिए.’

इस पर एक यूजर ने लिखा, ‘क्योंकि आप देश के लिए मेडल जीत रही थीं और कुछ तो यह भी नहीं जानते कि ‘देश’ क्या है.’ साथ ही हैशटैग लगाया- #babita_fogat_terrorist

इस पर ज्वाला ने लिखा, ‘मुझे आपका हैशटैग पसंद नहीं आया. आप प्लीज इसे डिलीट करें.’

शुक्रवार को बबीता ने अपने ट्वीट के बचाव में एक विडियो जारी कर विरोध कर रहे लोगों पर हमला किया. उन्होंने कहा कि वह ‘जायरा वसीम’ नहीं हैं और ना ही वह किसी तरह की धमकी से डरने वाली हैं.

अर्जुन अवॉर्डी 30 साल की महिला रेसलर बबीता ने लिखा था, ‘कोरोना वायरस भारत की दूसरे नंबर की सबसे बड़ी समस्या है. जमाती अभी भी पहले नंबर पर बना हुआ है.’ ऐसा लिखने के बाद कई लोगों ने इस पर विरोध जाहिर किया.

ट्विटर ने हालांकि बबीता के ट्वीट पर ढेरों यूजर्स द्वारा सवाल उठाने पर उसे कुछ समय के लिए डिलीट भी किया था.


Big News

Opinion

hathras girl
क्या दलित इंसान नहीं हैं? क्या उनकी अंतिम इच्छा नहीं हो सकती है?
रेयाज़ अहमद: क्या आप हमें बता सकते हैं कि 14 अक्टूबर के लिए क्या योजना बनाई गई है - कितने…
भीम कन्या
भीम कन्या
यह एक भव्य कार्यक्रम है। पुरे भारत में क़रीब एक हज़ार गाँव में 14 अक्टूबर को प्रेरणा सभा का आयोजन…
The recent Dharavi contagion of Covid-19 and how the city administration was effectively able to use its capacity within the given constraints to act.
Know Thy City
The small successes of urban policy and governance action illuminate the foundations of many big and routine failures. The relative…

Humans of Democracy