सुर्ख़ियां


नेपाल में भारत के 2000, 500 और 200 रुपए के नोट बैन

fall in gst collection may turn into next worry for the center

 

नेपाल सरकार ने भारत के 2000, 500 और 200 के नए नोट पर रोक लगा दी है. नेपाल सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्री गोकुल प्रसाद बसकोटा ने यह जानकारी 13 दिसम्बर को दी है. बीबीसी के मुताबिक कैबिनेट ने यह फैसला 10 दिसम्बर को ही ले लिया था.

नेपाल की प्रमुख वेबसाइट काठमांडू पोस्ट के मुताबिक नेपाल सरकार ने कहा है कि सिर्फ 100 रुपए के पुराने नोट ही वैध रहेंगे, लोग 100 रुपए से बड़े भारतीय नोट अपने पास नहीं रखें क्योंकि नोटबंदी के बाद नेपाल सरकार ने नए भारतीय नोटों को वैध घोषित नहीं किया है. कैबिनेट के फैसले को तुरंत प्रभाव से लागू कर दिया गया है.

अखबार में कहा गया है कि साल 2016 में नोटबंदी के बाद करोड़ो पुराने भारतीय नोट अब भी नेपाल में फंसे हुए हैं. बीबीसी में छपी खबर के मुताबिक नेपाल के केंद्रीय बैंक ने कहा था कि उनके पास भारत की करीब आठ करोड़ रुपए मूल्य के पुराने नोट हैं.

नेपाल में व्यापार और विनिमय में भारतीय नोट प्रचलित रहा है. मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले के बाद नेपाल में भी लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था.

नेपाल सरकार की ओर से कई बार नोट वापस लेने के अनुरोध के बाद भी भारत की ओर से कोई ठोस पहल नहीं हुई. माना जा रहा है कि भारत सरकार की ओर इसी बेरूखी की वजह से नेपाल की सरकार ने यह कड़ा कदम उठाया है. बीबीसी के नेपाली सेवा के संपादक के मुताबिक, “लेकिन उसके बाद भी कुछ नहीं हुआ, जिसे लेकर यहां नाराज़गी बनी हुई थी और शायद इसी वजह से नेपाल सरकार ने भारत के नए नोटों को अवैध घोषित करने का फ़ैसला लिया है.”

बीबीसी वेबसाइट पर छपी खबर में यह भी कहा गया है कि 100 रुपए के नोट पर अब तक कुछ नहीं कहा गया है.

अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है कि नेपाल में प्रचलन में आ चुके नए भारतीय नोटों को कैसे वापस किया जाएगा.