सुर्ख़ियां


मॉब लिंचिंग के मामलों में कोई कसूरवार क्यों नहीं होता

 

राजनीति में बात उन हिंसक घटनाओं की जिनमें किसी इंसान की जान चली गई लेकिन कसूरवार कोई नहीं पाया गया. झारखंड का तबरेज़ अंसारी मॉब लिंचिंग केस एक ऐसी ही मिसाल है. इस केस में पुलिस ने 11 लोगों पर लगा हत्या का आरोप वापस ले लिया है. मॉब लिंचिंग के कुछ और मामलों में भी जांच में लापरवाही बरते जाने और आरोपियों को बचाने के संगीन आरोप लग चुके हैं. अहम सवाल है कि आखिर ऐसा क्यों होता है कि मॉब लिंचिंग के मामलों में अक्सर कोई कसूरवार नहीं पाया जाता?