सुर्ख़ियां


पुलवामा का पाठ

 

कश्मीर के पुलवामा के आतंकी हमले में 40 जवानों की शहादत को एक साल हो गया लेकिन सुरक्षा बलों के काफिले पर हुए उस हमले की जांच अब तक पूरी नहीं हुई है. अब तक पता नहीं चला कि जिस जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा रहती है, वहां आतंकी सुरक्षा बलों के काफिले तक कैसे पहुंच गए?ये पता लगाना भी बाकी है कि सुरक्षा बलों के काफिले को सड़क की जगह एयर लिफ्ट करके ले जाने की इजाजत क्यों नहीं दी गई? न ही अब तक ये खुलासा हुआ है कि क्या ये हमला सुरक्षा में किसी लापरवाही की वजह से हुआ था?