सुर्ख़ियां




साहित्यिक सांस्कृतिक पत्रिका ‘अभिव्यक्ति’ (एपिसोड – 7)

 

जाने माने रंगकर्मी प्रसन्ना की मुहिम का क्या है मकसद, आखिर सड़कों पर उतरने को क्यों मजबूर होते हैं कलाकार, कौन है वो आदिवासी कलाकार जिसने 60 साल की उम्र में शुरू की चित्रकारी और जल्दी ही दुनिया में हो गईं मशहूर, साहित्यिक सांस्कृतिक गतिविधियों की परिक्रमा में कुछ खास कार्यक्रमों की झलकियां और सड़क पर कपड़े उतारने से स्त्री विमर्श नहीं होता — कहती हैं जानी मानी लेखिका मैत्रेयी पुष्पा.