सुर्ख़ियां


सात कारोबारी सत्रों की तेजी के बाद सेंसेक्स रिकॉर्ड स्तर फिसला

sensex down with record points after surge of seven sessions

 

शेयर बाजारों में पिछले सात कारोबारी सत्र से जारी तेजी के सिलसिले पर ‘ब्रेक’ लग गया. उच्चस्तर पर निवेशकों द्वारा मुनाफा काटने से सेंसेक्स 54 अंक टूटकर अपने रिकॉर्ड स्तर से नीचे आ गया.

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स कारोबार के दौरान 413 अंक तक घूमने के बाद अंत में 53.73 अंक या 0.13 प्रतिशत के नुकसान से 40,248.23 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान सेंसेक्स नीचे में 40,053.55 अंक और ऊंचे में 40,466.55 अंक तक गया.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 24.10 अंक या 0.20 प्रतिशत के नुकसान से 11,917.20 अंक पर बंद हुआ.

सेंसेक्स और निफ्टी दोनों में पिछले सात कारोबारी सत्रों से जारी तेजी का सिलसिला थम गया. सात माह में यह शेयर बाजारों में लगातार तेजी का सबसे लंबा सिलसिला रहा. विश्लेषकों का कहना है कि उत्साहवर्धक तिमाही नतीजों, विदेशी कोषों के सतत प्रवाह और सकारात्मक वैश्विक रुख से पिछले कुछ दिन से बाजार लगातार लाभ दर्ज कर रहा था.

अमेरिका-चीन के बीच व्यापार समझौते की उम्मीद में वैश्विक बाजारों में भी तेजी रही.

सेंसेक्स की कंपनियों में इंडसइंड बैंक, सनफार्मा, इन्फोसिस, टाटा स्टील और महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर 2.40 प्रतिशत तक टूट गए.

वहीं दूसरी ओर येस बैंक का शेयर 3.40 प्रतिशत चढ़ गया. एक प्रमुख निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने खुले बाजार के लेनदेन के जरिए बैंक के 1.3 करोड़ शेयर करीब 87 करोड़ रुपये में खरीदे हैं. बजाज फाइनेंस, भारती एयरटेल, एसबीआई, बजाज ऑटो, आईटीसी, हीरो मोटोकॉर्प और टेक महिंद्रा के शेयर भी 2.77 प्रतिशत तक लाभ में रहे.

बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 1.13 प्रतिशत तक की गिरावट रही.

कोटक सिक्युरिटीज के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (इक्विटी तकनीकी अनुसंधान) श्रीकान्त चौहान ने कहा, ”जब भी वाहन शेयरों में मुनाफावसूली का सिलसिला चलता है तो बाजार में ऐसी स्थिति बनती है. वास्तव में यह किसी भी अर्थव्यवस्था का सबसे संवेदनशील क्षेत्र होता है. आज की तारीख में बाजार विशेषज्ञों के साथ खुदरा कारोबारियों की निगाह इस पर लगी है.”

चौहान ने कहा कि बाजार से रोमांच गायब है. इसकी वजह है कि ज्यादातर बाजार भागीदार अपने दूसरी तिमाही के नतीजे घोषित कर चुके हैं. अब निवेशकों की निगाह घरेलू संकेतकों और व्यापार शुल्क के मोर्चे पर वैश्विक घटनाक्रमों पर है.