सुर्ख़ियां


पुण्यतिथि विशेषः हिन्दी सिनेमा में अपने अभिनय का लोहा मनवाने वाले संजीव

some unknown facts about sanjeev kumar life

 

संजीव कुमार का जन्म 9 जुलाई साल 1938 में हुआ था. संजीव कुमार को कम ही लोग उनके असली नाम हरिहर जरीवाल से जानते थे. उन्होनें बेहद ही कम उम्र में सोच लिया था कि वे अभिनेता बनेंगे. वे अपना अभिनेता बनने का सपना पूरा करने के लिए मुंबई आए जिसके बाद उन्होंने फिल्मालय के एक्टिंग स्कूल में दाखिला लिया.

साल 1960 में उन्हें ‘हम हिन्दुस्तानी’ फिल्म में एक छोटी सी भूमिका निभाने का अवसर मिला. जिसके बाद उन्हें फिल्म ‘निशान’ में काम मिला. लेकिन ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास कमाल ना दिखा सकी.

‘खिलौना’ फिल्म में उनका अभिनय देखते ही बनता था. इस फिल्म में उनका अभिनय देखकर दिलीप कुमार ने उनके अभिनय की सराहना की. इस फिल्म के साथ ही संजीव को हिन्दी सिनेमा में एक अलग पहचान मिली.

संजीव कुमार ने कई मशूहर फिल्मों में अभिनय किया. जैसे ‘सीता और गीता’,’मनचली’ ,’आंधी’ ,’मौसम’, ‘अंगूर’ और ‘नमकीन’, ‘शोले’,’अंगूर’ में वह जुड़वा भूमिका में नजर आए. साल 1976 में फिल्म ‘शिकार’ के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार मिला.

इस के बाद साल 1972 में फिल्म ‘कोशिश’ में उन्होंने गूंगे-बहरे आदमी का किरदार निभाया था. जिसके लिए उन्हें नेशनल अवॉर्ड मिला और साथ फिल्मफेयर में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार भी मिला.

साल 1985 में 47 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई.