बीजेपी को एकदिन उखाड़ फेंकेंगे: शिवसेना

Team NewsPlatform | November 19, 2019

we will uproot bjp one day it is a promise

 

महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में लंबे समय तक सहयोगी रही बीजेपी पर एक बार फिर से निशाना साधा है. पार्टी ने बहुत ही तल्ख लहजे में कहा कि वो बीजेपी को उखाड़ फेंकेगी जिसने उसे चुनौती देने का साहस दिया है.

शिवसेना ने लिखा कि वह बीजेपी के साथ तब खड़ी हुई जब किसी ने उसका समर्थन नहीं किया. पार्टी ने कहा कि यह घमंड की राजनीति के अंत की शुरुआत है.

शिवसेना ने बीजेपी पर बिना किसी बैठक के उसे एनडीए से निकालने की घोषणा और संसद में शिवसेना के सांसदों को विपक्ष की सीटें आवंटित करने को लेकर भी हमला बोला.

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव साथ में लड़ने वाले दोनों दलों ने 288 सदस्यीय सदन में मिलकर 161 सीटें जीती । इसके बाद मुख्यमंत्री पद को लेकर पैदा हुए मतभेदों के बाद से दोनों एक दूसरे पर लगातार हमले बोल रहे हैं. फिलहाल शिवसेना महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ बातचीत कर रही है.

इससे पहले संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने से पहले 17 नवंबर को हुई एनडीए बैठक में शिवसेना शामिल नहीं हुई. इसके बाद शिवसेना को सांसदों को संसद के दोनों सदनों में विपक्ष की सीटें आवंटित कर दी गईं. संसदीय कार्यक्रमों के मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा शिवसेना के एकमात्र मंत्री अरविंद सावंत के मोदी कैबिनेट से इस्तीफा देने और महाराष्ट्र में पार्टी द्वारा एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने का प्रयास करने के चलते शिवसेना सांसदों को विपक्ष की सीटें आवंटित कर दी गईं.

शिवसेना ने दावा किया कि सत्तारुढ़ दल के नेता तब बच्चे थे कि जब शिवसेना के सहयोग से एनडीए बना था. वहीं शिवसेना ने अप्रत्यक्ष रूप से बीजेपी की तुलना मोहम्मद गोरी से भी की.

शिवसेना ने संपादकीय में लिखा, ”मोहम्मद गोरी ने भारत में इस्लामी शासन की नींव रखी ओर हिंदू शासक पृथ्वीराज चौहान से कई युद्ध लड़े. हार के बाद हमेशा चौहान ने उसे बख्श दिया लेकिन जब गोरी ने युद्ध जीता तो उसे पृथ्वीराज चौहान को मार डाला.”

इसमें भाजपा का नाम लिए बिना कहा गया, ”महाराष्ट्र में भी शिवसेना ऐसे कृतघ्न लोगों को कई बार माफ कर चुकी है लेकिन अब वे हमारी पीठ में छुरा घोंपना चाहते हैं.”


Big News

Opinion

Humans of Democracy