उद्योगपति राहुल बजाज ने शाह से कहा- देश में डर का माहौल, आलोचना से डरते हैं लोग

Team NewsPlatform | December 1, 2019

amit shah takes u turn on nrc

 

उद्योगपति राहुल बजाज ने गृह मंत्री अमित शाह और अन्य केन्द्रीय मंत्री के सामने कहा कि देश में डर का माहौल है और लोग सरकार की आलोचना करने से डरते हैं.  ‘इकोनॉमिक टाइम्स’ पुरस्कार समारोह में यह बात उन्होंने रेल मंत्री पीयूष गोयल और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के सामने कही.

गृह मंत्री ने इन आरोपों का खंडन किया कि देश में डर का माहौल है. शाह ने कहा कि सरकार पारदर्शी तरीके से काम कर रही है.

बजाज ने कहा, ‘हमारे कोई भी उद्योगपति मित्र नहीं बोलेंगे, मैं सीधे तौर पर बोलता हूं… जब यूपीए सरकार सत्ता में थी तो हम खुलेआम किसी की भी आलोचना कर सकते थे… आप अच्छा काम कर रहे हैं, उसके बाद भी हम आपको क्रिटिसाइज ओपेनली करें, कांन्फिडेंस नहीं है कि आप इसे प्रोत्साहित करेंगे.’

इस दरम्यान आरआईएल के सीएमडी मुकेश अंबानी, आदित्य बिरला समूह के कुमार मंगलम बिरला और भारती इंटरप्राइजेज के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल मौजूद थे.

इससे पहले मनमोहन सिंह ने नेशनल इकॉनोमी कॉन्क्लेव में कहा था कि समाज में डर का स्पष्ट माहौल बन गया है. उन्होंने कहा, ‘कई उद्योगपति मुझे कह चुके हैं कि वह सरकारी प्राधिकारी की ओर से प्रताड़ना के डर के माहौल में जी रहे हैं.’

बजाज ने देश में बढ़ रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर कहा कि असहिष्णुता का माहौल बन गया है. उन्होंने कहा, ‘हम डरते हैं… कुछ चीजों को हम बोलना नहीं चाहते हैं पर देखते हैं कि किसी को दोषी ठहराया नहीं गया है.’

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जवाब में कहा कि सरकार और भारतीय जनता पार्टी ने नाथूराम गोडसे के संबंध में बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर की टिप्पणियों की कड़ी निंदा की है।

शाह ने यहां की टिप्पणी का उत्तर देते हुए कहा कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पहले ही प्रज्ञा के बयान की निंदा कर चुके हैं और पार्टी ने उनके खिलाफ कार्रवाई की है।

उन्होंने कहा, ”न तो सरकार और न ही बीजेपी, इस प्रकार के बयानों का समर्थन करती है। हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं।”

संबंधित खबरें: बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बयान के मुद्दे पर सर्वदलीय बैठक 

आतंकी प्रज्ञा ने आतंकी गोडसे को देशभक्त बताया : राहुल गांधी

उन्होंने कश्मीर की स्थिति पर बात करते हुए उद्योगपतियों से अपील की कि वे अपने परिवार के साथ घाटी जाएं और वहां की वास्तविक स्थिति का जायजा लें.


Big News