टीम इंडिया के सामने सलामी जोड़ी की समस्या

अजय चौहान | December 22, 2018

Problem of Salute pair in front of Team India

 

भारत और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच की शुरुआत 26 दिसंबर से होगी. जानकारों की राय में भारत के सामने सलामी जोड़ी की गुत्थी सुलझाने की चुनौती यहां भी बनी होगी. वैसे यह एक मौका है, जब भारत ऐसा कर सकता है. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले दो टेस्ट मैचों में मुरली विजय और केएल राहुल की जोड़ी ऑस्ट्रेलिया के पेस अटैक के खिलाफ संघर्ष करती नज़र आई थी.

इस सलामी जोड़ी ने अभी तक दो टेस्ट मैचों में अधिकतम 63 रन जोड़े हैं. लेकिन फिलहाल भारत के पास सलामी जोड़ी के रूप में काफी कम विकल्प मौजूद हैं. मुरली विजय और केएल राहुल पहले से ही खराब फॉर्म से गुज़र रहे हैं और पृथ्वी शॉ टखने की चोट के कारण सीरीज से बहार हो चुके हैं.

टीम इंडिया के पास विकल्प

विजय और मयंक– मुरली विजय का तो फॉर्म ख़राब चल रहा है. वहीं मयंक अग्रवाल को पृथ्वी शॉ के घायल हो जाने की वजह से टीम में आने मौका मिला है. अगर मयंक को मेलबर्न टेस्ट में खेलने का मौका मिला, तो वो वहीं से अपने टेस्ट क्रिकेट का आगाज़ करेंगे. दिग्गज पूर्व सलामी बल्लेबाज़ सुनील गावसकर ने कहा है कि केएल राहुल की जगह मयंक को खेलाना ही ठीक रहेगा.

पार्थिव और मुरली– पार्थिव पटेल ने भारत की तरफ से अपना आखिरी टेस्ट मैच इस साल की शुरुआत में खेला था. उसमें वो पहली पारी में मात्र दो रन के निजी स्कोर पर आउट हुए थे. वहीं दूसरी पारी की शुरुआत मुरली विजय और पार्थिव पटेल ने की थी, तब यह जोड़ी मात्र 17 रन की ही साझेदारी कर पाई थी. ऑस्ट्रेलिया के कठिन माहौल में अब उसी जोड़ी को दोहराना कितना वाजिब होगा, यह सवाल मौजूद है.

पार्थिव और रोहित– पार्थिव पटेल और रोहित शर्मा भारत के लिए खेलते रहे हैं. दोनों ही अनुभवी हैं. पार्थिव विकेट पर जम कर खेलते हैं, वहीं रोहित अपनी तेज़ शैली के खेल के लिए जाने जाते हैं. मगर रोहित शर्मा विदेशी जमीन पर हुए टेस्ट मैचों में अक्सर नाकाम रहे हैं.

तो भारत के सामने मौजूद विकल्प बहुत भरोसा नहीं बंधाते. बहरहाल, इनमें से ही किसी एक को भारत को आजमाना होगा. प्रयोग नाकाम रहा तो सलामी जोड़ी की समस्या बनी रहेगी.


Big News

Opinion

Humans of Democracy