दर्शकों को एक बार फिर अंताक्षरी में मिलेगा रेणुका शहाणे, पल्लवी जोशी का साथ

Team NewsPlatform | April 25, 2020

Pallavi Joshi, Renuka Shahane coming back with 90s hit prog Antakshari

 

90 के दशक वाला अंताक्षरी एक बार फिर दर्शकों में वहीं रोमांच और उत्साह भरने आ रहा है. खबरों के मुताबिक पल्लवी जोशी, रेणुका शहाणे, दुर्गा जसराज और राजेश्वरी सचदेव अपने चाहने वालों के लिए एक बार फिर अंताक्षरी लेकर आने वाली हैं.

30 अप्रैल को एक वर्चुअल फेस्टिवल होने वाला है. इसके आयोजक अनुपम खेर और विवेक अग्नीहोत्री हैं. शो में अंताक्षरी की मेजबावी अनु कपूर करेंगे. उम्मीद की जा रही है कि इस बारे में ज्यादा जानकारी दर्शकों का आगे धीरे-धीरे एड और प्रमोशन्स के माध्यम से मिलेगी.

अंताक्षरी के इन चारों मेजबानों को हम इस शो में देख पाएंगे. ये लोग एक-दूसरे से मिलेंगे और एक बार फिर अंताक्षरी खेलेंगे.

पल्लवी जोश ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक प्यार भरा संदेश देते हुए लिखा, ‘रेणुका, दुर्गा, राजेश्वरी और मेरे लिए अभिनय सबसे पहले था लेकिन संगीत और हमारे अनोखे सेंस ऑफ ह्यूमर के कारण हम जिंदगी भर के लिए दोस्त बन गए. मैं इस कार्यक्रम का बेसब्री से इंतजार कर रही हूं.’

इससे पहले 2016 में भी अंताक्षरी के इन उमदा मेजबानों का रियूनियन हुआ था. उस समय की कुछ फोटो को साझा करते हुए रेणुका शहाणे ने लिखा ‘हम एक गीत गा चुके हैं अब तेरी है बारी, जो तू ना गा पाया तो तेरी टीम है हारी.’

अंताक्षरी को एक सफल कार्यक्रम बनाने का श्रेय गजेंद्र सिंह को जाता है. इस रियूनियन के मौके पर सभी उन्हें भी याद करेंगे और अनु कपूर के साथ अपने काम करने के अनुभव को भी साझा करेंगे.

अंताक्षरी जी टीवी पर 1993 पर प्रसारित हुआ था जिसके बाद शो के 15 और सीजन आए जो अगले एक दशक तक चले.


Big News

Opinion

hathras girl
क्या दलित इंसान नहीं हैं? क्या उनकी अंतिम इच्छा नहीं हो सकती है?
रेयाज़ अहमद: क्या आप हमें बता सकते हैं कि 14 अक्टूबर के लिए क्या योजना बनाई गई है - कितने…
भीम कन्या
भीम कन्या
यह एक भव्य कार्यक्रम है। पुरे भारत में क़रीब एक हज़ार गाँव में 14 अक्टूबर को प्रेरणा सभा का आयोजन…
The recent Dharavi contagion of Covid-19 and how the city administration was effectively able to use its capacity within the given constraints to act.
Know Thy City
The small successes of urban policy and governance action illuminate the foundations of many big and routine failures. The relative…

Humans of Democracy