अफजल की बरसी पर कानून व्यवस्था की गड़बड़ी रोकने के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद

Team NewsPlatform | February 9, 2020

Mobile Internet services suspended to prevent disturbances of law and order on Afzal's anniversary

 

संसद हमले के दोषी मोहम्मद अफजल गुरू की सातवीं बरसी पर कानून व्यवस्था की किसी भी गड़बड़ी को रोकने के लिए एहतियात के तौर पर कश्मीर घाटी में प्रशासन ने मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी.

अधिकारियों ने बताया कि रविवार तड़के मोबाइल इंटरनेट सेवा सेवाएं स्थगित कर दी गईं क्योंकि प्रशासन को अलगाववादी संगठनों के बंद आह्वान के मद्देनजर घाटी में हिंसा होने की आशंका है.

प्रशासन ने 25 जनवरी को कश्मीर में टू जी इंटरनेट सेवाएं बहाल कर दी थी. पांच महीने से भी अधिक समय पहले पिछले साल पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी बनाए जाने के बाद से घाटी में सभी संचार सुविधाएं बंद कर दी गई थीं.

पुलिस ने अफजल गुरू की बरसी पर हड़ताल का आह्वान करने को लेकर प्रतिबंधित जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के खिलाफ शनिवार को प्राथमिकी दर्ज की थी.

गुरू को संसद पर दिसंबर, 2001 में हुए हमले में उसकी कथित भूमिका को लेकर 2013 में तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई थी.

जेकेएलएफ की प्रेस विज्ञप्ति को खबर बनाने को लेकर दो पत्रकारों को पुलिस ने तलब किया था. जेकेएलएफ ने रविवार और मंगलवार को हड़ताल का आह्वान किया था. मंगलवार को जेकेएलएफ के संस्थापक मोहम्मद मकबूल भट की बरसी है.

दोनों पत्रकारों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया. मकबूल भट्ट को 1984 में फांसी पर चढ़ा दिया गया था और उसके शव को तिहाड़ जेल के अंदर ही दफना दिया गया था.

अधिकारियों ने बताया कि इस बीच, हड़ताल के चलते कश्मीर में सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा.

उन्होंने बताया कि बाजार और व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे और सड़कों पर सार्वजनिक वाहन बहुत कम ही नजर आए. घाटी में कहीं से भी अब तक किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है.


Big News