सुर्ख़ियां


एफपीआई ने जनवरी में अब तक भारतीय पूंजी बाजार से 2,415 करोड़ रुपये निकाले

fdi increased in last financial year in service sector

 

अमेरिका और ईरान के बीच तनाव को देखते हुए विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीआई) सतर्कता बरत रहे हैं. जनवरी में अब तक उन्होंने भारतीय पूंजी बाजार से 2,415 करोड़ रुपये निकाले हैं.

डिपॉजिटरी के नए आंकड़ों के अनुसार 1 जनवरी से 10 जनवरी के दौरान एफपीआई ने शेयरों में 777 करोड़ रुपये डाले, जबकि ऋणपत्रों या बांड बाजार से 3,192.7 करोड़ रुपये निकाले. इस तरह एफपीआई ने घरेलू पूंजी बाजार से 2,415.7 करोड़ रुपये की शुद्ध निकासी की.

एफपीआई इससे पहले सितंबर, 2019 से लगातार हर महीने शुद्ध निवेशक रहे हैं.

मॉर्निंगस्टार इन्वेस्टमेंट एडवाइजर इंडिया के वरिष्ठ विश्लेषण प्रबंधक (शोध) हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ”भारतीय शेयर बाजार में निवेश करने से पहले विदेशी निवेशक वैश्विक मोर्चे पर चल रही गतिविधियों को नजदीकी से देख रहे हैं और सतर्कता बरते रहे हैं. अमेरिका और ईरान के बीच तनाव से बदली भू-राजनीतिक परिस्थितियों ने वैश्विक शेयर बाजारों को प्रभावित किया है.”

दोनों देशों ने तनाव को और नहीं खींचने के संकेत दिए हैं. इससे जोखिम पर धारणा पुन: मजबूत बन सकती है और आने वाले समय में एफपीआई सकारात्मक हो सकते हैं.

इसके अलावा एफपीआई की निगाहें 1 फरवरी को पेश होने जा रहे आम बजट पर भी लगी हैं.