हैदराबाद बलात्कार मामले में अब तक क्या हुआ?

Team NewsPlatform | December 1, 2019

Hyderabad rape case family says police did not take the case seriously and delayed in registering case

 

राष्ट्रीय महिला आयोग से बातचीत में पशु चिकित्सक के परिवार वालों ने पुलिस अधिकारियों पर आरोप लगाया है कि उन्होंने मामले की गंभीरता को ना समझते हुए टालमटोल और नकारात्मक रवैया अपनाया.

मामला देर से दर्ज करने के आरोप में तीन पुलिस वालों को बर्खास्त कर दिया गया है. इसमें शमशाबाद पुलिस थाने के सब-इंस्पेक्टर एम रवि कुमार और राजीव गांधी इंटरनेशनल हवाईअड्डा के हेड कॉन्सटेबल पी वेणु रेड्डी और ए सत्यानारायण गौड़ शामिल हैं. इन्हें अगले आदेश आने तक बर्खास्त रहना होगा.

साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जानर ने कहा कि विभाग ने इन पुलिस अधिकारियों पर कार्रवाई उनके कर्तव्य में लापरवाही बरतने के चलते की है.

परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि उनकी बेटी की जान बच सकती थी अगर  पुलिस समय बर्बाद किए बगैर जांच में फौरन जुट जाती.

राष्ट्रीय महिला आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा ने कहा कि परिवार वालों ने आयोग के सदस्य श्यामल एस कुंदर को बताया है कि पुलिस ने मामले में नकारात्मक भुमिका निभाया है. उन्होंने बताया कि कुंदर को परिवार वालों से मिली जानकारी के मुताबिक शिकायत दर्ज करने से पहले पुलिस ने पीड़ित पर आरोप लगाते हुए कहा कि वो किसी के भागी थी.

शर्मा ने बताया कि पुलिस ने काफी वक्त इसी बहस में गंवा दिया कि मामले को किस पुलिस स्टेशन में दर्ज करना चाहिए.

यह भी पढ़ें- हैदराबाद बलात्कार मामला: चारों आरेपियों को न्यायिक हिरासत में भेजा गया

बॉलीवुड कलाकारों ने बलात्कार मामले में जताया रोष

हैदराबाद में 25 वर्षीय पशु चिकित्सक के साथ बलात्कार और हत्या करने के मामले में हुमा कुरैशी, ऋचा चढ्ढा, यामी गौतम, शबाना आजमी, वरुण धवन, फरहान अख्तर और सलमान खान सहित कई बॉलिवुड हस्तियों ने रोष व्यक्त किया है. उन्होंने अपराधियों को जल्द से जल्द सजा देने की भी गुहार की है.

यामी गौतम ने ट्वीट किया, ”इस घटना से सदमे में हूं. क्या इन राक्षसों को सजा या कानून का कोई डर नहीं है? ये हम किस ओर जा रहे हैं?”
सलमान खान ने इस घटना पर नाराजगी जताते हुए ट्वीट कर कहा कि ‘बेटी बचाओ’ सिर्फ एक अभियान का नारा नहीं होना चाहिए.
उन्होंने कहा कि ऐसा अपराध करने वाले इंसानी रूप में फैले हुए शैतान हैं.
ऋचा चढ्ढा ने अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा देने पर जोर दिया.

फिल्म निर्माता कुणाल कोहली ने कहा कि इन ”राक्षसों” को मौत की सजा होनी चाहिए.

वरुण धवन ने कहा कि देश को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने के लिए हम सभी को साथ आने की जरूरत है.
अभिनेत्री हुमा कुरैशी ने ट्वीट किया,”हमें भारत को अपनी बेटियों के लिए सुरक्षित बनाना है. इस घटना से दुखी और शर्मिंदा हूं.”

शबाना आजमी और फरहान अख्तर ने भी घटना पर रोष जताते हुए दोषियों को जल्द से जल्द न्याय के कठघरे में लाने की अपील की.

यह भी पढ़ें- तेलंगाना: महिला पशुचिकित्सक की हत्या के बाद आरोपियों ने शव जलाया

राज्यपाल ने जल्द न्याय दिलाने का दिया आश्वासन

सामूहिक बलात्कार के बाद हत्या की शिकार हुई पशु चिकित्सक के परिवार को तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सौंदरराजन ने भरोसा दिलाया है कि वह यह सुनिश्चित करने के लिए ”संवैधानिक और कानूनी तौर पर” हरसंभव कोशिश करेंगी कि उन्हें त्वरित अदालत के गठन के साथ जल्द से जल्द न्याय मिले और मामले की सुनवाई दैनिक आधार पर हो.

सौंदरराजन ने कहा कि पुलिस को जल्द से जल्द जांच पूरी करने और आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर करने को कहा जाएगा. उन्होंने पीड़िता के परिवार से शमशाबाद स्थित उनके आवास में करीब आधे घंटे मुलाकात करने के बाद इस घटना को ”दुखद और स्तब्ध कर देने वाली” बताया और कहा कि इसने लड़कियों और महिलाओं का मनोबल कमजोर कर दिया है.
सौंदरराजन ने कहा, ”हम महिलाओं की सुरक्षा के संबंध में प्रणाली में मौजूद कमियों को दूर करेंगे.”

बोलने के बजाय सख्त कदम उठाने की जरूरत: प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने हैदराबाद और उत्तर प्रदेश के संभल में एक किशोरी के साथ बलात्कार एवं हत्या की निर्मम घटनाओं को लेकर आक्रोश जाहिर करते हुए कहा कि अब बातें करने की बजाय कदम उठाने होंगे.
उन्होंने ट्वीट कर कहा, ”हैदराबाद और संभल में बलात्कार एवं हत्या की घटनाओं से बहुत दुखी हूं. अपना आक्रोश जाहिर करने के लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं है.’
प्रियंका ने कहा कि एक समाज के तौर पर हमें ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए बोलने से ज्यादा बहुत कुछ करना होगा.

भारतीय युवा कांग्रेस और एनएसयूआई ने निकाला मार्च

भारतीय युवा कांग्रेस और एनएसयूआई के सदस्यों ने देश में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों के विरोध में शनिवार को मार्च निकाला.

युवा कांग्रेस के सदस्यों ने लुटियंस दिल्ली में मोमबत्तियां और तख्तियां लेकर शांतिपूर्वक मार्च निकाला.
युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अमरीश रंजन पांडे ने सरकार पर आरोप लगाया कि वह देश में महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने के लिए कोई कार्रवाई नहीं कर रही है.

उन्होंने कहा, ‘हम देश में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों को लेकर दुखी हैं. पिछले पांच से छह वर्षों में महिलाओं के खिलाफ अपराध काफी बढ़ गए हैं. सरकार इसके लिए कुछ नहीं कर रही है. अब समय आ गया है कि हमें अपने समाज को खुद को बचाना होगा.’

उन्होंने कहा कि हैदराबाद की पशु चिकित्सक के साथ जो हुआ उससे देश में महिला सुरक्षा के मुद्दे की ओर फिर से लोगों का ध्यान खींचा है. केंद्र सरकार महिलाओं की रक्षा करने में ”विफल” रही है.
एनएसयूआई के सदस्यों ने पटेल चौक मेट्रो स्टेशन से संसद मार्ग थाने तक मार्च निकाला.
उन्होंने पशु चिकित्सक के लिए न्याय की मांग करते हुए पुलिस स्टेशन के बाहर तेलंगाना सरकार का पुतला फूंका.

कांग्रेस से जुड़े एनएसयूआई ने न्याय मांगने के लिए घटना के खिलाफ संसद के सामने प्रदर्शन कर रही अनु दुबे को हिरासत में लेने का भी विरोध प्रदर्शन किया.

सदस्यों ने मांग की कि आरोपियों को तुरंत सजा दी जाए और इस तरह के जघन्य अपराध पर कम से कम मौत की सजा का प्रावधान किया जाए.
उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी अपील की कि वे देश भर में महिलाओं के खिलाफ अपराध में बढ़ोत्तरी के बारे में राष्ट्र को संबोधित करें.


Big News